भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगते में जनितीं सम्मे देवी अइहें / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
अगते में जनितीं सम्मे देवी अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
आ गे माई, आँचलन बेनिया डोलइतीं, सम्मे देवी पाहुनी।।१।।
अगते में जनितीं सँवसारी देवी अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
आ गे देवी अँचलन बेनिया डोलइतीं, पाहुनी सँवसारी देवी।।२।।
अगते में जनितीं दुरुगा देवी अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
आ गे देवी अँचलन बेनिया डालाइतीं सीतल देवी पाहुनी।।३।।
अगते में जनितीं बाइसी दवे अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
आ गे देवी आँचलन बेनिया डोलइतीं, बाइसी देवी पाहुनी।।४।।
आगते में जितनीं सीतला देवी अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
आ गे दवी, अँचलन बेनिया डोलइतीं, सीतल देवी पाहुनी।।५।।
अगते में जनितीं फुलमती बहिनी अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
आँचलन बेनिया डोलइतीं, फूलमती बहिनी पाहुनी।।६।।
अगते में जनितीं हठी देवी अइहें, केसियन डगर बहरीतीं,
अँचलन बेनिया डोलइतीं, हठी देवी पाहुनी।।७।।