भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगरचे आदमी पैदा न होता / रंजना वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगरचे आदमी पैदा न होता
कहीं भी इश्क़ का चर्चा न होता

समन्दर अश्क़ के क्योंकर उमड़ते
ये पानी आँख का खारा न होता

हसीनों में छिपीं नाज़ुक अदायें
कभी भी दिल कोई हारा न होता

नहीं हमदर्दियाँ होतीं दिलों में
खुद का ग़र कोई प्यारा न होता

दिलों में दूरियाँ होतीं न ऐसी
जुबां मीठी कड़ा लहज़ा न होता

किसम इतनी गुलों की ग़र न होती
तो गुलशन इस कदर महका न होता

फ़लक़ पर हैं खिले इतने सितारे
कहीं इन मे कोई अपना न होता

किसी की ग़र दुआएँ साथ देतीं
लखमा नासूर में बदला न होता

तुझे अपना कभी का मान लेते
अगर तू प्यार का दरिया न होता