भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगरचे वक़्त मुनाजात करने वाला था / रफ़ी रज़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगरचे वक़्त मुनाजात करने वाला था
मिरा मिज़ाज सवालात करने वाला था

मुझे सलीक़ा न था रौशनी से मिलने का
मैं हिज्र में गुज़र-औक़ात करने वाला था

मैं सामने से उठा और लौ लरज़ने लगी
चराग़ जैसे कोई बात करने वाला था

खुली हुई थी बदन पर रवाँ रवाँ आँखें
न जाने कौन मुलाक़ात करने वाला था

वो मेरे काबा-ए-दिल में ज़रा सी देर रूका
ये हज अदा वो मिरे साथ करने वाला था

कहाँ ये ख़ाक के तौदे तले दबा हुआ जिस्म
कहाँ मैं सैर-ए-समावात करने वाला था