भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर आदमी ख़ुद से हारा न होता / मधुभूषण शर्मा 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज




                          अगर आदमी ख़ुद से हारा न होता ,
                          ख़ुदा को किसी ने पुकारा न होता !

                          कहां आसमां पर ख़ुदा बैठ जाता ,
                          जो हम ने ज़मीं पर उतारा न होता !

                          बदलता नहीं वक़्त यह रंग अपने ,
                          किसी आदमी का गुज़ारा न होता !

                          नहीं ख़्वाब कोई हक़ीक़त में ढ़लता ,
                          जो दस्ते-जुनूं ने सँवारा न होता !

                          बुझानी अगर आग आसान होती ,
                          किसी राख में फिर अँगारा न होता !

                          कहीं पर भी होती अगर एक मंज़िल ,
                          तो गर्दिश में कोई सितारा न होता !

                          ये सारे का सारा जहां अपना होता ,
                          अगर यह हमारा तुम्हारा न होता !