भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अगर कहीं / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसमान में बजे बाँसुरी
धरती सारी झूमे-गाए,
अगर कहीं ऐसा हो भाई,
सचमुच खूब मजा आ जाए!

तारे धरती पर आ जाएँ
चाँद उतर आए आँगन में,
नन्हे-नन्हे सूरज पैदा
हों पृथ्वी पर, वन-उपवन में।

पेड़ों पर पैसे लगते हों
रसगुल्ले हों डाली-डाली,
जगह-जगह नदियाँ-पर्वत हों
हो सब धरती पर हरियाली।

चंद्रलोक में पैदल जाएँ
सूर्यलोक की सैर करें हम,
वहाँ-वहाँ पर घूमें-घामें
जहाँ-जहाँ हो बढ़िया मौसम।

फूलों जैसी हों मुसकानें
नदी सरीखा हर दिल गाए,
अगर कहीं ऐसा हो भाई,
सचमुच, सबके मन को भाए!