भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर तुम वही हो जो तस्वीर में हो / पुरुषोत्तम अब्बी "आज़र"

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अगर तुम वही हो जो तस्वीर में हो
समझ लो लिखी मेरी तक्दीर में हो

सभी सांस लें हम यूं खुल के हवा में
मुक्द्दर किसी का न जंजीर में हो

लिखा मैंने खत हैं क्यूं उत्तर न आया
जरुरी नहीं उसकी तहरीर में हो

न पूछा किसी ने भी जिन्दे को पानी
बना मक्बरा उसकी तौकीर में हो

ये रौशन अगर थोड़ी दुनिया है"आज़र"
तुझे क्या पता तेरी तन्वीर में हो