भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अगर बनोॅ तेॅ / चन्द्रप्रकाश जगप्रिय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फूल बनोॅ तोंय जूही रं
नै काँटोॅ, नै सूई रं।

पानी रं तोंय हुवोॅ तरल
विष बनियोॅ नै बनोॅ गरल।

मन दूधे रं साफ रहौं
वहाँ नै कोय्यो पाप रहौं।

गुरुजनोॅ के ला आशीष
सदा झुकेले रहियो शीश।

पोथी खल्ली साथे-साथ
यश पैवा तोंय हाथे हाथ।