भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर बाँटने निकलो जग का ग़म / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर बाँटने निकलो जग का ग़म
तो अपना दुख भी हो जाये कम।

दुनिया से उम्मीद रखो उतनी
जितने से सम्बन्ध रहे कायम।

इस आँसू से जग का दुख सींचो
तपते मौसम को कर दो कुछ नम।

मुक्त आप हर चिंता से हो जांय
सिर्फ़ त्याग दें अपना आप अहम।

खिड़की खेालो तो प्रकाश आये
भीतर का छँट जाये सारा तम।