भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अगर मुझको इक बार उससे मिला दो / राहुल शिवाय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लुटा दूँगा तुझपर बची जिंदगानी
अगर मुझको इक बार उससे मिला दो।

कहाँ खो गए मेरे सपने सलौने
कहाँ खो गया उसपे अधिकार मेरा,
रखा जिसको दिल में, नयन में बसाया
हुआ काँटों जैसा वही प्यार मेरा।
सनम को बता के ये पैगाम दिल का
कोई प्यार की फिर कली को खिला दो।

मिली वह नहीं जब मुझे जिंदगी में
मिले स्वर्ग का सुख तो बेकार होगा,
जिसे रात औ नींद से ही हो अनबन
उसे खाट, तकियों से क्या प्यार होगा।
नहीं चाँदनी रातों की है जरूरत
मिलन-आस का कोई दीपक जला दो।

सनम की प्रतीक्षा में मैं जी रहा हूँ
कभी तो मेरा पूर्ण विश्वास होगा,
अभी तो समय है शिशिर का, है पतझड़
इसे बीतने दो तो मधुमास होगा।
सुधा की है चाहत नहीं इस हृदय को
मुझे 'प्राण'-हाथों से विष ही पिला दो।