भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर रिश्ता ए दिल निभाना नहीं था / राकेश तैनगुरिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर रिश्ता ए दिल निभाना नहीं था
तुम्हें मुझको अपना बनाना नहीं था

बड़ी कद्र थी तब खुलूसो वफा की
अभी जैसा पहले ज़माना नहीं था

किसी रोज ऐसा तो होना था यारो
गागर में सागर समाना नहीं था

इतना दिया देने वाले ने मुझको
जितना मिरा पैमाना नहीं था

मेरी बात तुमको बुरी तो लगेगी
तुम्हें हुस्ने चन्दा चुराना नहीं था

मेरा नाम 'राकेश' यूँही नहीं है
उजालों का कब मैं ख़जाना नहीं था