भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर है ज़िंदगी तो ज़िंदगी बोलती जाए / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर है ज़िंदगी तो ज़िंदगी बोलती जाए ।
उदासी और तन्हाई में कोई गीत तो गाए ।

ख़्याली आँच पर रक्खी हुई वो केतली खोलो,
कि जिससे भाप के परचम उड़ें, माहौल गरमाए ।

मुझे मु्स्कान के बदले मिलीं आँसू की सौगातें,
मेरे दिल ने ये चाहा था कहीं से रोशनी आए ।

कहाँ मज़बूतियों का शोर था बाज़ार से घर तक,
कहाँ कमज़ोरियाँ इतनी कि सन्नाटा भी गिर जाए ।

न आई नींद तो फिर कैसे आते उसकी बातों में,
दिखाने को तो रातों ने भी अवसर ख़ूब दिखलाए ।

हवा के ज़ोर के आगे बहुत चंचल है पानी भी,
कभी मौसम का रुख देखे, कभी लहरों में आ जाए ।

तुम्हारी याद ही अपनी उम्मीदों का सिरहाना है
सँभाला है इसी ने जब भी दिल के ज़ख़्म गहराए ।