भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अगर / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर नहीं यह सूरज होता
तो होता अँधियारा
अगर न आता चाँद, न लगता
आसमान यह प्यारा

अगर नहीं ये तारे होते
चमकीले-चमकीले
आसमान में कहाँ चमकते
झिलमिल नीले-पीले

और अगर ये रंगबिरंगे
फूल न खिलते होते
तो क्या होता, हम फूलों की
यह सुंदरता खोते

बेलें होतीं नहीं, न होते
पेड़ झूमने वाले
पर्वत होते नहीं कहीं
आकाश चूमने वाले

नदियाँ, ताल और झरना भी
नहीं एक भी होता
निर्मल पानी का पत्थर से
कहीं न बहता सोता

अगर नहीं होते इतने पशु
पक्षी कहीं न गाते
तो हम कैसे इस दुनिया में
अपना मन बहलाते

इस दुनिया में सब-कुछ ही है
लगती इससे प्यारी
कौन देख पाता वरना ये
सुंदर दुनिया सारी।