भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगले पड़ाव पर यूँही ख़ेमा लगाओगे / आबिद मुनावरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगले पड़ाव पर यूँही ख़ेमा लगाओगे
जितनी भी है सफ़र की थकन भूल जाओगे

बाहर हवा-ए-तेज़ लगाए हुए है घात
घर से जो निकले अब कि पलट कर न आओगे

हर शख़्स अपने आप में मसरूफ़ है यहाँ
किस को फ़साना-ए-दिल-मुज़्तर सुनाओगे

ताबिंदा-ख़्वाब देख कर आँखें खुलेंगी जब
ज़ुल्मात के बग़ैर यहाँ कुछ न पाओगे

इक दूसरे से हो के अलग ख़ुश रहेगा कौन
तड़पेंगे हम भी ख़ुद भी तुम आँसू बहाओगे

जा तो रहे हो जिंस-ए-वफ़ा की तलाश में
साथ अपने यासियत के सिवा कुछ न लाओगे

गिर्दाब सामने है मुख़ालिफ़ हवाएँ हैं
कश्ती को कैसे जानिब-साहिल घुमाओगे

जिस को ख़ुलूस समझे हुए थे वो क्या हुआ
कितना यक़ीन था तुम्हें धोका न खाओगे

पर्बत हैं बर्फ़-पोश क़दम देख-भाल कर
'आबिद' फिसल गए तो सँभलने न पाओगे