भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अगे बकरिया अर्र अर्र अर / दिनेश बाबा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोरा डेंगैबौ डर डर डर
करै बकरिया भें भें भें
पठवा बोलै में में में
पठिया बोलै कुकुक मियां
कहै जेना कि छिौ हियां
बकरी जब मेमियाबै छै
सब केॅ पास बोलाबै छै
पास गेल्हौ तेॅ प्यारोॅ सें
दुमड़ी खूब डोलाबै छै
दूध पिलाबै चटर-पटर
कान डोलाबै पटर-पटर
कोय उजरी कोय करकी छै
लागै जना मुझरकी छै
अजबे बात छै होकरा में
दाढ़ी बकरी बकरा में