भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अग्नि के गर्भ में पला होगा / शिव ओम अम्बर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अग्नि के गर्भ में पला होगा,
शब्द जो श्लोक में ढला होगा।

दृग मिले कालिदास के उसको,
अश्रु उसका शकुन्तला होगा।

है सियासत विराट-नगरी-सी,
पार्थ इसमें बृहन्नला होगा।

दर्प ही दर्प हो गया है वो,
दर्पनों ने उसे छला होगा।

भाल कर्पूरगौर हो बेशक,
गीत का कंठ साँवला होगा।