भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अचण जी ॻाल्हि त सोचे न सघियुसि! / अर्जुन हासिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अचण जी ॻाल्हि त सोचे न सघियुसि!
लिखी ॿ लफ़्ज बि तोखे न सघियुसि!

वॾो को ताणु हवाउनि में हो,
नज़र जे अहम खे भोरे न सुघियुसि!

कठोर अहिड़ो रहियो रुख़ तुंहिंजो,
हलाए वसु बि को तोते न सुघियुसि!

अञा बि बंद उहो दरवाज़ो,
जो कंहिं बि मुरिक सां खोले न सुघियुसि!

कॾहिं त साज़ वॻो थे झीणो,
टुटी जो तंदु, त जोड़े न सघियुसि!

अञा बि महक अचियो मनु वासे,
हवा खे किअं बि त रोके न सुघियुसि!

किथे वरी बि गॾियासीं हासिद,
अखियुनि में सार सा ॻोल्हे न सुघियुसि!