भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अचल सुहाग कियो गुरु मेरो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अचल सुहाग कियो गुरु मेरो।
मर्म किपाट खुले सब मनके दिल दीदार महल में हेरो।
दृष्ट अदृष्ट एक मत डोले सार शब्द को कियो नबेरो।
कर अनुराग भाग सब जागे कर्म-मर्म को मिटो अंधेरो।
जूड़ीराम सत्गुरु की महिमा कर अपने सो प्रीत घनेरो।