भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अचानक छाए बादलों की परछाईं की तरह / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  अचानक छाए बादलों की परछाईं की तरह

अचानक छाए
बादलों की परछाईं की तरह
समुद्री परी-सी उभर आई वह
जल के भीतर से
फिसली ज़रा, घबराई वह
फिर फड़फड़ाई ऐसे
टकराई हो
व्याकुल-हृदय सागर-तट से जैसे
बह रही है शान्त हल्की हवा
फरफरा रहा है नैया का पाल
सनसना रहा है, झनझना रहा है
शुभ्र-श्वेत परदा विशाल
झिझक रहा है, पीछे हट रहा है
मानों कोई आस नहीं हो
डर रहा है पुनः तट को छूने में
जैसे अब साहस नहीं हो
जलतरंगों के धक्के से
नैया हिल रही है ऐसे
दूर कहीं पर काँप रही हो
किसी पेड़ की पत्ती जैसे

1910