भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अची दर्शन ॾे तूं प्रभू दर्शन ॾे तूं / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अची दर्शन ॾे तूं प्रभू दर्शन ॾे तूं
तुंहिंजे प्रेम जी प्यासी आहियां मां उदासी
कहिड़ी रमिज़ रचायां कीअं तोखे रीझायां

कर महर का मूंते रहां प्रेम में तुंहिंजे
प्रभू प्रेम अधारा खणी नेण निहारियां

सूरज चंड ऐं तारा सभु तुंहिंजा सोभारा
कीअं कनि था जलिवो सभ तुंहिंजी आ रचिना

कीअं ध्यानु धरियां तुंहिंजो नालो पुकारियां
इहो ज्ञान मूंखे ॾे प्रभू ज्ञान भंडारा

हर चंड में आहे कीअं ध्यानु लॻाए
तुंहिंजा ॻीत सो ॻाए
हीअ ‘निमाणी’ उदासी
अची दर्शन ॾे तूं साईं दर्शन ॾे तूं