भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छा मौसम आने वाला है / जयकृष्ण राय तुषार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

        समाचार है
        अच्छा मौसम
        आने वाला है
भीमसेन-सा
पंचम सुर में
गाने वाला है ।

        इन्द्रधनुष की
        प्रत्यंचा फिर
        गगन कस रहा
        हरे भरे
        जंगल में आकर
        हिरन बस रहा
 
कोई
फूलों में आकर
बतियाने वाला है ।

        प्यासे खेत
        पठार
        लोकरंगों में डूबे
        रेत हुई
        नदियों के
        रूमानी मंसूबे

कोई देकर
अपना हाथ
छुड़ानेवाला है ।

        साँस-साँस में
        गंध गुलाबी
        हवा बह रही
        तोड़ रहीं
        छत इच्छाएँ
        दीवार ढह रही

भटकन में
भी कोई
राह बतानेवाला है ।

        मन केरल की
        मृगनयनी
        आँखों में खोया
        थका हुआ
        चेहरा सागर
        लहरों ने धोया
 
कोई काट
चिकोटी हमें
सताने वाला है ।