भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छा लगता है हमें गौहर निकलते देखना / अजय अज्ञात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अच्छा लगता है हमें गौहर निकलते देखना
ख़ुद से ही औलाद को बेहतर निकलते देखना

बज़्म में कुछ चीटियों के पर निकलते देखना
बौने क़द वालों के ऊंचे सर निकलते देखना

मूँद कर आँखें, फ़क़त कानों ही से अपने कभी
शेर में जज़्बात को बाहर निकलते देखना

ढूंढ़ कर वो यंत्र लाओ जिस से मुम्किन हो सके
आत्मा का जिस्म से बाहर निकलते देखना

ख़ूबसूरत कोई मंज़र देखना चाहो अगर
भोर में उठकर कभी दिनकर निकलते देखना