भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छी बुद्धि / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छिः चिड़िया, छिः गैया कैसी
रोज़ रोज़ नंगी ही रहतीं।
सोचे मुनिया बॆठी बॆठी
मम्मी इनकी कुछ न कहतीं?

जहां तहां गोबर कर देती
लाज गाय को कब है आती
चिड़िया भी ऐसी ही होती
बाथरूम में कभी न जाती।

आखिर पापा से ही पूछा
पापा ने यह बात बताई
बेटी इनको हम जैसी तो
अच्छी बुद्धि मिल ना पाई।