भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छे लीला गोद मेरी / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अच्छे लीला गोद मेरी सोक लिलिहारी
नाक पै बुलाक गोद रथ कौ सो पैय्या
गालन को झुकादे दोनों लंग को पपैय्या
होठों में बना दे एक कोयल कारी
अच्छे लीला गोद मेरी...