भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजगरी संत्रास / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

  
          तन गई हैं इस क़दर युग मान्यताएँ
                     घुट गया है गीत का जीवन
                                           अरे, मन !
               साँस धीमे ले बढ़ेगी और जकड़न

सामने है व्यंग्य, पीछे
विष-बुझा परिहास
आदमखोर


                                 शब्दहीन वेदना को
                                     बींधता सायास
                                           दुहरा शोर
                खींचता है अजगरी संत्रास भूखा
                         मुट्ठियों में बंद खालीपन
                                               अचेतन
          धमनियों में तैर जाता बाँस का बन ।

टीसते हैं खिड़कियों के
प्रश्-सूचक चिन्ह
सारी रात

                              टूटता अपनत्व कुंठित
                                   व्योम से विच्छिन्न
                                            उल्कापात
               थक गई है नब्ज जब संवेदना की
                       क्या करे कमज़ोर संजीवन
                                               निवेदन
            ओढ़ धूमिल धूप पीता अनमनापन।