भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अजब खेल हैं जादूगर के / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजब खेल हैं जादूगर के!

लंबी पगड़ी तुर्रेदार
ढीली-ढाली सी सलवार,
आते ही उसने तो भाई
किस्से छेड़े इधर-उधर के!
लेकर दस पैसे का सिक्का
बाँध रूमाल में ऊपर फेंका,
छू-मंतर बोला तो सिक्का
पहुँचा सोनू की नेकर में!

एक टोकरी खाली-खाली
थी सबकी वह देखी-भाली,
जादूगर ने उसे घुमाया
निकल पड़े मुर्गी के बच्चे!

फिर उसने लेकर दस मटके
तोड़ दिए सारे वे झट से,
जब डंडे से उन्हें छुआ तो-
साबुत थे वे सारे मटके!