भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजब बात है देखो क्या चाहते हैं / श्याम सुन्दर नंदा नूर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजब बात है देखो क्या चाहते हैं।
जफा करके भी वो वफ़ा चाहते है।

ज़माने में कोई भला काम कर लें
जमाने का हम तो भला चाहते हैं।

कोई सरमदी गीत हमसे लिखा दे
यही तुझ से हम ऐ खुदा चाहते हैं।

तेरे दर पे बैठे हैं धूनी रमाए
महब्बत भरी इक सदा चाहते हैं।

है ऐ नूर हम तो महब्बत के बन्दे
नही हम किसी का बुरा चाहते हैं।