भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजहूँ न निकसे प्रान कठोर / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजहूँ न निकसे प्रान कठोर .
दरसन बिना बहुत दिन बीते सुंदर प्रीतम मोर.
चारि पहर चारों जुग बीते रैनि गंवाई भोर .
अवधि गई अजहूँ नहिं आए कतहुँ रहे चितचोर.
कबहूँ नैन निरखि नहिं देखे मारग चितवत तोर.
दादू ऐसे आतुर बिरहिनि जैसे चन्द चकोर.