भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजिर में खेलत बाल-गोपाल / स्वामी सनातनदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग विलावल, झूमरा 16.7.1974

अजिर में खेलत बाल-गोपाल।
लखि-लखि रूप लाल को मैया मानत आपु निहाल॥
सिर लटुरी अँग झँगुली अनुपम, लटकन लटकत भाल।
माथे तिलक, पायँ पैजनियाँ रुनझुन रवहिं रसाल॥1॥
कण्ठ सोह बधनख अरु कठुला मोतिन की वर माल।
कर कंकनियाँ कटि किंकिनियाँ, सुखमा सुभग विसाल॥2॥
सोहत कर क्रीनक मनोहर, किलकत दै-दै ताल।
निज प्रतिविम्ब धरनकों धावत, चलत घुटुरुअन चाल॥3॥
सुघर अधर विच द्वै दन्तुलियाँ, हँसत हँसावत लाल।
मचलि-मचलि माखनकों पुनि-पुनि मातुहिं करत विहाल॥4॥
बाल गोपाल-लाल की सुखमा नयनन करत निहाल।
मुनिजन हूँ की मति तहँ भोरो, कहा हमारो हाल॥5॥