भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजिर में खेलत हैं दोउ भैया / स्वामी सनातनदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग देवगिरि, ताल झूमरा 9.8.1974

अजिर में खेलत हैं दोउ भैया।
गौर स्याम की अद्भुत सुखमा हुलसि-हुलसि निरखहिं दोउ मैया॥
मणि-आँगन में चलहिं घुटुरुअन, हरसहिं निरखि-निरखि परछैया।
करहिं रारि प्रतिविम्बहुँ सों दोउ, हँसहिं हँसावहिं दै किलकैया॥1॥
भाँति-भाँति के कनक क्रीडनक, मोहन को भावै अति गैया।
कबहुँ छिनाय लेत दाऊ तो सुबकि-सुबकि रोवहि नँद छैया॥2॥
मैया लै कनिया चुचकारत, हलरावत करि लाड़-लड़ैया।
बड़े भाग्य पायो सुख ऐसो, वारि-वारि असु[1] लेत बलैया॥3॥

शब्दार्थ
  1. प्राण