भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजी सुन्दर गल में माल मात / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजी सुन्दर गल में माल मात, तेरी सुन्दर सिंह सवारी है।
सुन्दर लौकड़िया खड़ा तेरे, सुन्दर भैरों बलकारी है।।
सुन्दर चौरासी भवन तेरे, सुन्दर जगजोत तिहारी है।
सुन्दर तेरे चरण निरख माता, दुरवासा रिसी बलिहारी है।।