भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अज्ञेय / विपिनकुमार अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उनसे कई बार मिला

बहुत-सी बातें कहीं

पर संकोच में

या बुद्धिमानी की ओट में

वे चुप रहे

महज़ कहा

हूँ, हाँ और एक नहीं


(रचनाकाल : 1957)