भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अटरिया छाय रही लौंगन में / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अटरिया छाय रही लौंगन में
सेजरिया महक रही फुलवन में।
लौंगन छायी कछु लायचन छायी
जायफल की है अधिकाई।
सबरेई देवी देवता आये मिसल सें
सो गनेस देव काये नई आये।
अटरिया छाय रही...
सबरेई देवी देवता आये मिसल सें
सो भोले बाबा काये नई आये।