भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अड़वै री हांडी / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अड़वै री हांडी
होई बांडी
घर बणी
चिड़कल्यां रो।

खेत धणी रा
पग सुण
चिड़कल्यां भरी उडारी
अड़वो फंफेड़ीज्यो
सूत्यो गंडक उठ्यो
अड़वै रै दीवी
पांच-सात फेरी
अचाणक उठाई
आपरी एक टांग
पछै बा ई बात
जकी करै
गंडका अकसर
दिन-रात।