भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अड़ अर बगत सूं लड़ / मनोज पुरोहित ‘अनंत’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बगत साथै नीं
बगत सूं आगै बध
बगत रै पगां मत पड़
बगत सूं लड़।
 
ठाह है
तेज है बगत री रफ्तार
थूं ई उठा पग खाथा-खाथा
लांबा-लांबा भर डग
समझ बगत री रग
ताकतवर है बगत
कमजोर थूं ई कोनी
अड़ अर बगत सूं
साम्हीं छाती लड़ ।