भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अणा बाने केसर उड़ीरयो / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऊना सा पाणी ठंडा वई रया रे
रामदेव जी रूणीजा में रे
ऊना सा भोजन ठंडा वई रया रे
रामदेव जी रूणीजा में रे
सुन्ना की झारी, गंगाजल पाणी
रामदेव जी रूणीजा में रे
सोने की सार, जड़ावे का पांसा
रामदेव जी रूणीजा में रे
पक्के जो पान, कलाई का चूना
रामदेव जी रूणीजा में रे