भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अतिकौ पिवइया सुलफा गाँजे कौ / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रे लँगुरिया अति कौ पिवइया सुलफा गाँजे कौ,
जाकी खोल दऊँगी मैं पोल॥ लँगुरिया.
मेरौ झूमर बेच सुलफा ले आयौ.
और हरवा कौ करि आयौ मोल॥ लँगुरिया.
मेरे हरवा कूँ बेच सुलफाा ले आयो,
और पेन्डल कौ करि आयौ मोल॥ लाँगुरिया.
(इसी तरह जेवरों के नाम लेते जाते हैं)
जाने सभी कुछ बेचौ सुलफा गाँजे कूं
और मोसे है बोलत बोल॥ लँगुरिया.