भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अतीत में बारिश / पारुल पुखराज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खूब हुई बारिश
सोई रही वह
सोचते
हो रही है अतीत में बारिश

भीग रहा सहन
सहन में बिछौना
बिछौने पर
सपना

सोई थी वह
खूब बारिश के होने में
सोई ही रह जाती

कोई जो

डूबता बिछौना देख
न लगाता आवाज
दालान से
उसे