भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अदाकारी / गण्डकीपुत्र / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पोसिदा हो जाते हैँ सब कुछ
जहर रखेँ या आब-ए-हयात
जिन्दगी रखेँ या मौत
पर्दा लग जाने के बाद
बाहर से कुछ नजर नहीं आता
नजर आता है सिर्फ पर्दा ।

जिस तरह पोटली के अन्दर
चाकू डाल कर चलने पे भी
दवा डाल कर चलने पे भी
नजर आती है सिर्फ पोटली
वैसा ही है पर्दा लगाना भी ।
 
मुझे कहीं नजर न आया
पर्दा न लगा हुवा एक भी चेहरा
सर-ए-आइना खडे हो कर
खुद को देखते हुए भी
पर्दा नजर आता है मुझे
अपना चेहरा दिखाई देने से पहले ।