भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधिकारी वंदना / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे अधिकारी
रहता हूँ हर पल सतर्क
कि मेरी क़मीज़ न दिखे
आपकी क़मीज़ से ज्‍यादा सफ़ेद
न चमके मेरे दाँत
आपके दाँतों से ज़्यादा
रखता हूँ ध्यान
कि न देखूँ आपसे ज़्यादा बुद्धिमान
इसलिए कस कर पकड़े रखता हूँ
बुद्धि की लगाम
हे अधिकारी
रहें आप प्रसन्न
सोचें अधिकार प्रदर्शन के
नित नये ढंग
हो सके तो करें मुझे अपमानित
एकदम नये तरीके से
हे अधिकारी
हे अवतारी
हे कृष्ण मुरारी