भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधूरा हैं सफ़र इस ज़िन्दगी का / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अधूरा हैं सफ़र इस ज़िन्दगी का
कोई अवसर नहीं है वापसी का

मेरी आँखों से हो बरसात इतनी
समन्दर सूख जाये तश्नगी का

इसी इक आरज़ू में उम्र गुज़री
कोई तो पल मयस्सर हो ख़ुशी का

मुसीबत का सबब ईमानदारी
तमाशा बन गया है ज़िन्दगी का

तेरी यादों के जंगल में खड़ी हूँ
कोई धब्बा नहीं है तीरगी का

रफू करती हूँ इतने चाक दिल के
हुनर ख़ुद आ गया बखियागरी का

चराग़े दिल जलती हूँ वहां मैं
जहां दम टूटता हैं रौशनी का

सिया से कोई क्यूं नाराज़ होगा
कभी भी दिल दुखाया हैं किसी का ?