भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनका पति के देखि चार गाल बात करे / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनका पति के देखि चार गाल बात करे
अपना पती के देख खटिया पर कोहँरी।
चुल्हिया लिपावन लागे हँड़िया धोवावन लागे
पनिया भरावन लागे छुए देना देह री।
पूरी ओ मिठाई देत आपना मिलनुवाँ के
आपना पती के देत सतुआ ओ फरूही।
कहत महेन्द्र इहे लच्छन करकसा के
करमे फुटेला जेकरा मिले अइसन मेहरी।