भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनबोले रहो न जा ननद बाई / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अनबोले रहो न जाए ननद बाई,
बीरन तुम्हारे अनबोला।
अरे हां रे ननद बाई,
कैसे के बीरन तोरे बोलिहैं,
अरे कैसे जतन करो आज ननद बाई।
अरे हां रे भौजइया,
गैया दुहाऊं जब तुम जैहों,
उते बछरा खों दियो छोड़ हो भौजी...
बीरन हमारे तबई बोलें
अनबोले रहो न जाए...