भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनहद जीवन, अनहद आशा / प्रेम शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काहे उदासा
काहे रुँआसा,
               काहे रे मनवा
               अँसुवन-अँसुवन
अनहद जीवन
अनहद आशा ।
              
     मँच-मुखौटे
     नाटक-खेल,
     हेला-मेला
     बहुरि अकेला,
काहे बावरे
इत-उत भटकन,
     जग अनुभव
     विपरीत तमाशा।
              
     राम-रमैया
     नाव खिवैया
     लहर-बहर
     बादल- पुरवैया,
     
काहे परेवा
कुहू-कुहू
           अनघट बून्द
           जलधि में वासा ।