भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनिँदो रात / रमेश क्षितिज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आफूलाई भुलिरहेँ बिर्सनेलाई सम्झिरहेँ
के के सोचेँ रातभरि बिउँझिरहेँ–बिउँझिरहेँ !

जिस्क्याइरह्यो जुनेलीले बतासले पोलिरह्यो
उध्रिएको छातिभित्र रातले बल्छी खेलिरह्यो
कहाँकहाँ मर्म थियो तीर आई बिझिरह्यो
निदाउँछु भन्दै रहेँ सिरानी नै भिजिरह्यो

टुक्र्याइरहेँ आफैँलाई च्यातिएको हेरिरहेँ
फर्कन्न जो फेरि अब उसैलाई कुरिरहेँ
कति थिए घाउहरू एकान्तमा गनिरहेँ
गुन्गुनाएँ आफ्नो गीत आफैँले नै सुनिरहेँ