भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अनुकम्पा के अवतार / ईहातीत क्षण / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन है वह पृथा पुरुषोत्तम ?
कौन है वह आकाश पुरूष ?
मैं जिसकी धरती होना चाहती हूँ.
कौन है विराट ज्योति का वह हिमालय ?
मैं जिसका दीपक होना चाहती हूँ.
कौन है अनंत सागर की गहराई ,मैं जिसका विस्तार होना चाहती हूँ.
कौन है वह सहारा मैं जिसका किनारा होना चाहती हूँ?
कौन है वह नक्षत्र समूह ?
मैं जिसका सूर्य होना चाहती हूँ.
कौन है पृकृति का वह सौन्दर्य पुंज ?
मैं जिसकी सुगंध होना चाहती हूँ.
कौन है वह दिव्य अनुकम्पा का अवतार ?
मैं जिसकी श्रद्धा होना चाहती हूँ.