भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुपस्थिति / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह हुई तो,
        सूरज फीका-फीका निकला ।
        वातायन की हवा नहीं गाती थी गीत ।
        सजे हुए गुलदानों के रक्तिम गुलाब,
        क्या जाने क्यों पड़ते जाते थे,
                              प्रतिक्षण पीत ।

बाहर बिखरा,
        क्षितिज शून्य मुझसे निस्पृह था ।
        आकर्षण भी नहीं, न था कुछ आमन्त्रण ।
        चित्र-लिखी-सी सज्जा दीवारों-पर्दों की,
        आप लौट आती आवाज़,
                              कैसा प्रण ।

साँझ घिरी तो,
        लगा अचानक अब अन्धियारी,
        चिर अभेद्य होकर यहाँ ही मण्डराएगी ।
        भूले-भटके एक किरण भी नहीं यहाँ
        ज्योतिर्मय काँचन तन से भू
                              छू जाएगी ।

दीप जला, पर
        उसका भी प्रकाश मटमैला
        लौ की दीप्ति क्षीण होती जाती छिन-छिन ।
        निर्बल होते मन पर सहसा याद घिरी —
        ’केवल एक तुम्हीं इस गृह में नहीं,
                              आज के दिन ।’