भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुभव हुए प्रयाग-से / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमने जब-जब तुम्हें छुआ
अनुराग से
साँसों के सब अनुभव हुए प्रयाग से
 
हुई हर छुवन
उस पल गंगा-स्नान सी
चितवन जिस पल हुई
काम के बान-सी
 
नहा गयी
मौसम की धूप सुहाग से
 
बाँहों के घेरे में
छवि के बिम्ब लिये
हमने तुम सँग
मधुमासों के रंग जिये
 
दमक गये
सुधियों के पल सब आग-से
 
पोर-पोर में
इच्छा के जुगनू जगे
रस-निर्झर में
खड़े रह गये हम ठगे
 
अंगों ने
जब छुआ रूप को फाग से