भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अनुमान मत लगाओे, पूछ लो / वार्सन शियर / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनुमान मत लगाओे, पूछ लो ।
विनम्र बनो ।
बोल दिया करो सच-सच ।

मत कहो कुछ भी ऐसा
जिस पर रह न सको अडिग पूरी तरह ।

बचा कर रखना
हर हाल में अपना ईमान ।

बता दिया करो लोगों को
जो कुछ भी महसूस करते हो तुम ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र