भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनौठो आनन्द / मनप्रसाद सुब्बा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दुनियाँले देख्ला कि भनी
लुकाइराखेको
संसारले निन्दा गर्ला कि भनी
नदेखाइराखेको
मेरो निजी कमजोरी
आज तिम्रो सामुन्ने उदाङ्गो राखिदिएँ

अनि आह !
यस क्षण
यौटा अनौठो आनन्दले म
कता हो कता माथि उठेको छु –
यौटा निक्खुर जिन्दगी बाँच्नुको आनन्द !