भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तर्द्वन्द्व / संध्या सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसने धूमिल किया नगीना
किसने मुझको मुझसे छीना
मेरे भीतर मेरे मन का
कौन विरोधी आन बसा

जब आशा का कलश उठाया
आशंका ने ज़हर भरा
जब भी निर्भय होना चाहा
भीतर-भीतर कौन डरा
जब भी ख़ुद के बन्धन खोले
जाने किसने और कसा

जब भी थक कर सोना चाहा
भीतर-भीतर कौन जगा
जब भी अपनी कसी लगामें
भीतर सरपट कौन भगा
बीच नदी मेरे काँटे में
मेरा ही प्रतिबिम्ब फँसा

उसकी सारी ठोस दलीलें
मेरे निर्णय पिघल गए
दाँव नेवले और साँप से
टुकड़ा-टुकड़ा निगल गए
मेरी हार निराशाओं पर
मुझमे ही ये कौन हँसा